पंचतंत्र कहानियाँ : शेर और गाय की कहानी| The Lion And The Cow Story In Hindi with Moral

Sher aur Gaay ki Kahani – हेलो दोस्तों, आज हम आपके लिए शेर और गाय की कहानी (sher or gaay ki story in hindi) को लेकर आये है। शेर और गाय की कहानी काफी मजेदार और शिक्षाप्रद कहानियों में से एक है।

वैसे तो शेर और गाय की कहानी (sher or gaay ki story in hindi) काफी  पुरानी कहानी है लेकिन आज भी इसे बहुत पसंद किया जाता है। और इस कहानी से बहुत कुछ सीखने को मिलता है। तो चलिए आपको पूरी कहानी विस्तार से बताते है-

शेर और गाय की कहानी

एक पहाड़ी के नीचे रामगढ़ नाम का एक गाँव था। गाँव के सभी जानवर सुबह हरी घास खाने के लिए उसी पहाड़ी के ऊपर जंगल में जाते थे और शाम को वापस घर लौटते थे।

हर दिन लक्ष्मी नाम की एक गाय अन्य गायों के साथ घास खाने के लिए उसी पहाड़ी के उपर जंगल में जाती थी और घास चरकर वापस आ जाती थी ।

हर दिन तरह उस दिन भी वह गाय सभी के साथ जंगल में गयी और घास चरने लगी . वह हरी घास खाकर इतनी खुश थी कि उसे पता ही नहीं चला कि कब वह शेर की मांद के पास पहुंच गई।

शेर अपनी गुफा में सो रहा था और वह पिछले दो दिनों से भूखा भी था। जैसे ही लक्ष्मी शेर की गुफा में पहुंची तो शेर गाय की नींद से जाग गया।

वह धीरे-धीरे दहाड़ता हुआ गुफा से बाहर आया और गाय को गुफा के बाहर देखकर प्रसन्न हुआ । शेर ने मन ही मन सोचा कि आज उसकी दो दिन की भूख मिट जायेगी।

शेर सोचता है की आज वह इस स्वस्थ गाय का ताजा मांस खाकर मस्ती से सो जायेगा और ख़ुशी में वह जोर से दहाडा।

The Lion And The Cow Story In Hindi with Moral
शेर और गाय की कहानी| The Lion And The Cow Story In Hindi with Moral
The Lion And The Cow Story In Hindi with Moral

शेर की दहाड़ सुनकर लक्ष्मी डर जाती हैं। जब वह अपने चारों ओर देखती है तो उसे दूर-दूर तक कोई गाय नजर नहीं आती।

जब वह हिम्मत करके पीछे मुड़ी तो उसने देखा कि उसके सामने एक शेर खड़ा है। लक्ष्मी को देखकर शेर फिर दहाड़ा और लक्ष्मी से बोला, “दो दिन से मुझे कोई शिकार नहीं मिल रहा था, मैं भूखा था। शायद इसीलिए भगवान ने तुम्हें मेरा पेट भरने के लिए मेरे पास भेजा है. आज मैं तुम्हें खाकर अपनी भूख मिटाऊंगा.The Lion And The Cow Story In Hindi with Moral

शेर की बात सुनकर लक्ष्मी डर जाती हैं. वह रोते हुए शेर से कहती है “मुझे जाने दो, मुझे मत खाओ। मेरा एक छोटा बच्चा है जो सिर्फ मेरा दूध पीता है और उसने अभी तक घास खाना नहीं सीखा है।

लक्ष्मी की बात सुनकर शेर हंसता है और कहता है, “तो क्या मुझे अपने हाथ में आए शिकार को ऐसे ही जाने देना चाहिए? मैं आज तुम्हें खाकर अपनी दो दिन की भूख मिटा लूंगा.

जब शेर ने यह कहा तो लक्ष्मी उसके सामने रोने लगी और उससे विनती करने लगी कि आज मुझे जाने दो। मैं आज आखिरी बार अपने बछड़े को दूध पिलाऊंगी और उसे खूब प्यार करके कल सुबह तुम्हारे पास आऊंगी. फिर तुम मुझे खाकर अपना भूखा पेट भर लेना।

शेर लक्ष्मी की बात मान जाता है और धमकी देता है कि, “अगर तुम कल नहीं आओगी तो मैं तुम्हारे गांव आऊंगा, फिर तुम्हें और तुम्हारे बेटे दोनों को खा जाऊंगा।”

शेर की यह बात सुनकर लक्ष्मी प्रसन्न हो जाती है और शेर को अपना वचन देकर वापस गाँव चली जाती है। वहां से वह सीधे अपने बछड़े के पास जाती है।

उसे दूध पिलाती है और खूब प्यार करती है. तब बछड़ा शेर को पूरी घटना बताता है और कहता है कि अब उसे अपना ख्याल खुद रखना होगा। कल सुबह वह अपना वादा पूरा करने के लिए शेर के पास जाएगी।

बछड़ा अपनी माँ की बातें सुनकर रोने लगता है। दूसरे दिन सुबह लक्ष्मी जी जंगल की ओर प्रस्थान करती हैं और शेर की गुफा के सामने पहुंचकर शेर से कहती हैं, “मैं अपने वचन के अनुसार तुम्हारे पास आई हूं। अब तुम मुझे खा सकते हो।”

गाय की आवाज सुनकर शेर अपनी गुफा से बाहर निकलता है और भगवान के अवतार में प्रकट होता है। वह लक्ष्मी से कहता है, “मैं तो बस तुम्हारी परीक्षा ले रहा था।

आप अपनी बात के पक्के हैं. मुझे इससे बहुत ख़ुशी हुई. अब आप अपने घर और बछड़े के पास वापस जा सकते हैं।

इसके बाद वे उस गाय को गौ माता होने का वरदान भी देते हैं और उस दिन के बाद से सभी गायें उन्हें गौ माता कहने लगती हैं।

शेर और गाय की कहानी : शिक्षा

हमें अपनी जान की बाजी लगाकर भी अपना दिया हुआ वादा पूरा करना चाहिए। यह हमारे मजबूत व्यक्तित्व को दर्शाता है.

The Lion And The Cow Story In Hindi

ek pahaadee ke neeche raamagadh naam ka ek gaanv tha. gaanv ke sabhee jaanavar subah haree ghaas khaane ke lie usee pahaadee ke oopar jangal mein jaate the aur shaam ko vaapas ghar lautate the

. har din lakshmee naam kee ek gaay any gaayon ke saath ghaas khaane ke lie usee pahaadee ke upar jangal mein jaatee thee aur ghaas charakar vaapas aa jaatee thee .

har din tarah us din bhee vah gaay sabhee ke saath jangal mein gayee aur ghaas charane lagee .

vah haree ghaas khaakar itanee khush thee ki use pata hee nahin chala ki kab vah sher kee maand ke paas pahunch gaee.

sher apanee gupha mein so raha tha aur vah pichhale do dinon se bhookha bhee tha. jaise hee lakshmee sher kee gupha mein pahunchee to sher gaay kee neend se jaag gaya.

vah dheere-dheere dahaadata hua gupha se baahar aaya aur gaay ko gupha ke baahar dekhakar prasann hua .

sher ne man hee man socha ki aaj usakee do din kee bhookh mit jaayegee.

sher sochata hai kee aaj vah is svasth gaay ka taaja maans khaakar mastee se so jaayega aur khushee mein vah jor se dahaada.

sher kee dahaad sunakar lakshmee dar jaatee hain. jab vah apane chaaron or dekhatee hai to use door-door tak koee gaay najar nahin aatee.

jab vah himmat karake peechhe mudee to usane dekha ki usake saamane ek sher khada hai. lakshmee ko dekhakar sher phir dahaada aur lakshmee se bola, “do din se mujhe koee shikaar nahin mil raha tha, main bhookha tha.

shaayad iseelie bhagavaan ne tumhen mera pet bharane ke lie mere paas bheja hai. aaj main tumhen khaakar apanee bhookh mitaoonga.

sher kee baat sunakar lakshmee dar jaatee hain. vah rote hue sher se kahatee hai “mujhe jaane do, mujhe mat khao.

mera ek chhota bachcha hai jo sirph mera doodh peeta hai aur usane abhee tak ghaas khaana nahin seekha hai.

lakshmee kee baat sunakar sher hansata hai aur kahata hai, “to kya mujhe apane haath mein aae shikaar ko aise hee jaane dena chaahie? main aaj tumhen khaakar apanee do din kee bhookh mita loonga.

jab sher ne yah kaha to lakshmee usake saamane rone lagee aur usase vinatee karane lagee ki aaj mujhe jaane do.

main aaj aakhiree baar apane bachhade ko doodh pilaoongee aur use khoob pyaar karake kal subah tumhaare paas aaoongee.

phir tum mujhe khaakar apana bhookha pet bhar lena. sher lakshmee kee baat maan jaata hai aur dhamakee deta hai ki, “agar tum kal nahin aaogee to main tumhaare gaanv aaoonga, phir tumhen aur tumhaare bete donon ko kha jaoonga.”

sher kee yah baat sunakar lakshmee prasann ho jaatee hai aur sher ko apana vachan dekar vaapas gaanv chalee jaatee hai.

vahaan se vah seedhe apane bachhade ke paas jaatee hai. use doodh pilaatee hai aur khoob pyaar karatee hai.

tab bachhada sher ko pooree ghatana bataata hai aur kahata hai ki ab use apana khyaal khud rakhana hoga.

kal subah vah apana vaada poora karane ke lie sher ke paas jaegee. bachhada apanee maan kee baaten sunakar rone lagata hai.

doosare din subah lakshmee jee jangal kee or prasthaan karatee hain aur sher kee gupha ke saamane pahunchakar sher se kahatee hain, “main apane vachan ke anusaar tumhaare paas aaee hoon.

ab tum mujhe kha sakate ho.” gaay kee aavaaj sunakar sher apanee gupha se baahar nikalata hai aur bhagavaan ke avataar mein prakat hota hai. vah lakshmee se kahata hai, “main to bas tumhaaree pareeksha le raha tha.

aap apanee baat ke pakke hain. mujhe isase bahut khushee huee. ab aap apane ghar aur bachhade ke paas vaapas ja sakate hain.

isake baad ve us gaay ko gau maata hone ka varadaan bhee dete hain aur us din ke baad se sabhee gaayen unhen gau maata kahane lagatee hain.

sher or gaay ki story moral

hamen apanee jaan kee baajee lagaakar bhee apana diya hua vaada poora karana chaahie. yah hamaare majaboot vyaktitv ko darshaata hai.

5 thoughts on “पंचतंत्र कहानियाँ : शेर और गाय की कहानी| The Lion And The Cow Story In Hindi with Moral”

Leave a Comment