पंचतंत्र कहानियाँ : जादुई पतीला की कहानी | Magical Pot Story in Hindi With Moral

Magical Pot ki Kahani – हेलो दोस्तों, आज हम आपके लिए जादुई पतीला की कहानी (jadui patila ki story in hindi) को लेकर आये है। जादुई पतीला की कहानी काफी मजेदार और शिक्षाप्रद कहानियों में से एक है।

वैसे तो जादुई पतीला की कहानी (Magical Pot Story in Hindi With Moral) काफी  पुरानी कहानी है लेकिन आज भी इसे बहुत पसंद किया जाता है। और इस कहानी से बहुत कुछ सीखने को मिलता है। तो चलिए आपको पूरी कहानी विस्तार से बताते है-

जादुई पतीला की कहानी

वर्षों पहले पीतल नगर में किशन नाम का एक किसान रहता था। वह गांव के एक जमींदार के खेत में काम करके किसी तरह अपना घर चला रहा था।

पहले किशन के पास भी खेत थे, लेकिन पिता की तबीयत खराब होने के कारण उन्हें अपने सारे खेत बेचने पड़े। मजदूरी में मिले पैसों से पिता का इलाज कराना और घर का खर्च चलाना मुश्किल हो रहा था।

वह हर दिन यही सोचता है कि घर की हालत कैसे सुधारी जाए। आज भी यही सोच कर किशन सुबह-सुबह जमींदार के खेत पर काम करने के लिए निकल जाता।

इसकी छड़ी ढली हुई धातु से बनी थी और खुदाई करते समय तेज़ आवाज़ करती थी। किशन के मन में ऐसा अंत हुआ, यहाँ क्या है? उसने तुरंत उस हिस्से को खोदा तो वहां से एक बड़ा घड़ा निकला। पतिला को देखकर किशन उदास हो गया.

किशन के मन में आया कि अगर ये गहने होते तो मेरे घर की हालत कुछ सुधर जाती। फिर किशन ने सोचा कि चलो, अब खाना खा लूंगा।

खाना खाने के लिए किशन ने अपने हाथ में ली हुई कुदाल को उस बर्तन में फेंक दिया और हाथ-मुंह धोकर खाना खाने लगा। भोजन ख़त्म करने के बाद किशन कुदाल उठाने के लिए बर्तन के पास गया।

वहां पहुंचते ही किशन हैरान रह गया. उस घड़े के अंदर एक नहीं बल्कि कई कुदालें थीं। उसे कुछ समझ नहीं आया. तभी उसने अपने पास रखी एक टोकरी भी उस बर्तन में फेंक दी.

वह एक टोकरी भी घड़े के अन्दर जाते ही अनेक हो गयी। यह सब देखकर किशन खुश हो गया और उस जादुई बर्तन को अपने साथ घर ले गया।

वह प्रतिदिन अपने कुछ औजार उस बर्तन में डाल देता था और जब उनकी संख्या बहुत अधिक हो जाती थी तो वह उन्हें बाजार में जाकर बेच देता था।

ऐसा करते-करते किशन के घर की हालत सुधरने लगी। इस तरह उसने बहुत पैसा कमाया और अपने पिता का इलाज भी कराया।

एक दिन किशन ने कुछ आभूषण खरीदे और उन्हें बर्तन में रख दिया। वे आभूषण भी बहुत हो गये। इस तरह धीरे-धीरे किशन अमीर होने लगा और उसने जमींदार के यहां मजदूरी करना भी बंद कर दिया।

किशन को अमीर होता देख जमींदार मोहन को किशन पर शक हुआ। वह सीधे किशन के घर पहुंच गया. वहां उसे जादुई पतीले के बारे में पता चला। उन्होंने किशन से पूछा, “यह बर्तन तुमने कब और किसके घर से चुराया?”

Magical Pot Story in Hindi With Moral
जादुई पतीला की कहानी  |Magical Pot Story in Hindi With Moral
Magical Pot Story in Hindi With Moral

किशन डरी हुई आवाज में बोला, “सर! यह बर्तन मुझे खेत में खुदाई करते समय मिला। मैंने किसी के घर में चोरी नहीं की है.

खेत में खुदाई की बात सुनते ही जमींदार ने कहा, “जब यह बर्तन मेरे खेत में मिला तो मेरा हो गया।” किशन ने जादुई पतीला न लेने की बहुत मिन्नत की, लेकिन जमींदार मोहन ने उसकी एक न सुनी। वह जबरदस्ती उस जादुई घड़े को अपने साथ ले गया।

जमींदार ने भी किशन जैसी चीजें जोड़कर उन्हें बढ़ाना शुरू कर दिया। एक दिन जमींदार ने अपने घर के सारे गहने एक-एक करके उस बर्तन में रख दिए और रातोंरात बहुत अमीर बन गया।

जमींदार के अमीर होने की खबर तत्काल पीतल नगर के राजा तक पहुंची। पता लगाने पर राजा को जादुई जहाज के बारे में भी जानकारी मिली।

फिर क्या था, राजा ने तुरंत अपने लोगों को भेजकर जमींदार के यहां से वह बर्तन मंगवाया।

जैसे ही वह जादुई घड़ा महल में पहुंचा, राजा ने अपने आसपास की चीजें उसमें डालनी शुरू कर दीं। माल बढ़ता देखकर राजा दंग रह गया। धीरे-धीरे, आख़िरकार राजा स्वयं उस घड़े के अंदर चला गया। देखते ही देखते उस बर्तन से कई राजा निकले।

पतीले से बाहर आने वाला हर राजा यही कहता, “मैं पीतल नगरी का असली राजा हूं, तुम्हें तो इस जादुई पतीले ने बनाया है।” ऐसा होते ही सभी राजा आपस में लड़ने लगे और लड़ते-लड़ते मर गये। लड़ाई के दौरान वह जादुई पतीला भी टूट गया.

जादुई पतीले के कारण महल में हुए इस भयानक युद्ध के बारे में नगर के सभी लोगों को पता चल गया। इसकी जानकारी मिलने पर मजदूर किशन और मकान मालिक मोहन ने सोचा, अच्छा हुआ कि हमने उस जादुई बर्तन का सही इस्तेमाल किया। उस राजा को अपनी मूर्खता के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी।

जादुई पतीला की कहानी : सीख

जादुई बर्तन की कहानी से दो सीख मिलती हैं। सबसे पहले, मूर्खता का अंत हमेशा बुरा होता है। दूसरे, हर वस्तु का प्रयोग सावधानी से करना चाहिए। बहुत हानिकारक हो सकता है.

Magical Pot Story in Hindi

varshon pahale peetal nagar mein kishan naam ka ek kisaan rahata tha. vah gaanv ke ek jameendaar ke khet mein kaam karake kisee tarah apana ghar chala raha tha.

pahale kishan ke paas bhee khet the, lekin pita kee tabeeyat kharaab hone ke kaaran unhen apane saare khet bechane pade.

majadooree mein mile paison se pita ka ilaaj karaana aur ghar ka kharch chalaana mushkil ho raha tha.

vah har din yahee sochata hai ki ghar kee haalat kaise sudhaaree jae. aaj bhee yahee soch kar kishan subah-subah jameendaar ke khet par kaam karane ke lie nikal jaata.

isakee chhadee dhalee huee dhaatu se banee thee aur khudaee karate samay tez aavaaz karatee thee.

kishan ke man mein aisa ant hua, yahaan kya hai? usane turant us hisse ko khoda to vahaan se ek bada ghada nikala. patiladekh kr kishan udaas ho gaya.

kishan ke man mein aaya ki agar ye gahane hote to mere ghar kee haalat kuchh sudhar jaatee. phir kishan ne socha ki chalo, ab khaana kha loonga.

khaana khaane ke lie kishan ne apane haath mein lee huee kudaal ko us bartan mein phenk diya aur haath-munh dhokar khaana khaane laga.

bhojan khatm karane ke baad kishan kudaal uthaane ke lie bartan ke paas gaya.

vahaan pahunchate hee kishan hairaan rah gaya. us ghade ke andar ek nahin balki kaee kudaalen theen. use kuchh samajh nahin aaya.

tabhee usane apane paas rakhee ek tokaree bhee us bartan mein phenk dee.

vah ek tokaree bhee ghade ke andar jaate hee anek ho gayee. yah sab dekhakar kishan khush ho gaya aur us jaaduee bartan ko apane saath ghar le gaya.

vah pratidin apane kuchh aujaar us bartan mein daal deta tha aur jab unakee sankhya bahut adhik ho jaatee thee to vah unhen baajaar mein jaakar bech deta tha. aisa karate-karate kishan ke ghar kee haalat sudharane lagee.

is tarah usane bahut paisa kamaaya aur apane pita ka ilaaj bhee karaaya.

ek din kishan ne kuchh aabhooshan khareede aur unhen bartan mein rakh diya. ve aabhooshan bhee bahut ho gaye.

is tarah dheere-dheere kishan ameer hone laga aur usane jameendaar ke yahaan majadooree karana bhee band kar diya.

kishan ko ameer hota dekh jameendaar mohan ko kishan par shak hua. vah seedhe kishan ke ghar pahunch gaya.

vahaan use jaaduee matake ke baare mein pata chala.

unhonne kishan se poochha, “yah bartan tumane kab aur kisake ghar se churaaya?” kishan daree huee aavaaj mein bola, “sar! yah bartan mujhe khet mein khudaee karate samay mila.

mainne kisee ke ghar mein choree nahin kee hai.

khet mein khudaee kee baat sunate hee jameendaar ne kaha, “jab yah bartan mere khet mein mila to mera ho gaya.

” kishan ne jaaduee mataka na lene kee bahut minnat kee, lekin jameendaar mohan ne usakee ek na sunee. vah jabaradastee us jaaduee ghade ko apane saath le gaya.

jameendaar ne bhee kishan jaisee cheejen jodakar unhen badhaana shuroo kar diya. ek din jameendaar ne apane ghar ke saare gahane ek-ek karake us bartan mein rakh die aur raatonraat bahut ameer ban gaya.

jameendaar ke ameer hone kee khabar tatkaal peetal nagar ke raaja tak pahunchee. pata lagaane par raaja ko jaaduee jahaaj ke baare mein bhee jaanakaaree milee.

phir kya tha, raaja ne turant apane logon ko bhejakar jameendaar ke yahaan se vah bartan mangavaaya.

jaise hee vah jaaduee ghada mahal mein pahuncha, raaja ne apane aasapaas kee cheejen usamen daalanee shuroo kar deen.

maal badhata dekhakar raaja dang rah gaya. dheere-dheere, aakhirakaar raaja svayan us ghade ke andar chala gaya.

dekhate hee dekhate us bartan se kaee raaja nikale. matake se baahar aane vaala har raaja yahee kahata, “main peetal nagaree ka asalee raaja hoon, tumhen to is jaaduee matake ne banaaya hai.”

aisa hote hee sabhee raaja aapas mein ladane lage aur ladate-ladate mar gaye. ladaee ke dauraan vah jaaduee mataka bhee toot gaya.

Magical Pot Story moral

jaaduee bartan kee kahaanee se do seekh milatee hain. sabase pahale, moorkhata ka ant hamesha bura hota hai. doosare, har vastu ka prayog saavadhaanee se karana chaahie. bahut haanikaarak ho sakata hai.

5 thoughts on “पंचतंत्र कहानियाँ : जादुई पतीला की कहानी | Magical Pot Story in Hindi With Moral”

Leave a Comment