पंचतंत्र कहानियाँ : भूखी चिड़िया की कहानी |Hungry Bird Story in Hindi With Moral

Bhukhi Chidiya ki Kahani – हेलो दोस्तों, आज हम आपके लिए भूखी चिड़िया की कहानी (Hungry Bird Story in Hindi) को लेकर आये है। भूखी चिड़िया की कहानी काफी मजेदार और शिक्षाप्रद कहानियों में से एक है।

वैसे तो भूखी चिड़िया की कहानी (Hungry Bird Story in Hindi With Moral) काफी  पुरानी कहानी है लेकिन आज भी इसे बहुत पसंद किया जाता है। और इस कहानी से बहुत कुछ सीखने को मिलता है। तो चलिए आपको पूरी कहानी विस्तार से बताते है-

भूखी चिड़िया की कहानी

वर्षों पहले टिंकू चिड़िया अपने माता-पिता और 5 भाइयों के साथ घंटाघर में रहती थी। टिंकू पक्षी छोटा था। उसके पंख मुलायम थे. उनकी माँ ने उन्हें घंटाघर की धुन पर चहकना सिखाया था।

घंटाघर के पास एक घर था, जिसमें पक्षियों से प्रेम करने वाली एक महिला रहती थी। वह प्रतिदिन टिंकू पक्षी और उसके परिवार के लिए रोटी का एक टुकड़ा डालती थी।

एक दिन वह बीमार पड़ गयी और मर गयी। टिंकू पक्षी और उसका पूरा परिवार उस महिला के भोजन पर निर्भर था। अब उनके पास खाने के लिए कुछ नहीं था और न ही वे अपने लिए भोजन जुटाने के लिए कुछ करते थे।

एक दिन टिंकू पक्षी के पिता को बहुत भूख लगी तो उन्होंने कीड़ों का शिकार करने का फैसला किया। कड़ी मेहनत के बाद उन्हें 3 कीड़े मिले, जो परिवार के लिए पर्याप्त नहीं थे।

वे 8 लोग थे, इसलिए उन्होंने टिंकू और उसके 2 छोटे भाइयों को खिलाने के लिए कीड़ों को अलग रख दिया।

इधर, खाने की तलाश में भटकते हुए टिंकू, उसका भाई और उसकी मां कुछ ढूंढने के लिए एक घर की खिड़की पर चोंच मार रहे थे, लेकिन कुछ नहीं मिला। इसके बदले घर के मालिक ने उन पर राख फेंक दी, जिससे वे तीनों भूरे हो गये.

Hungry Bird Story in Hindi With Moral
भूखी चिड़िया की कहानी |Hungry Bird Story in Hindi With Moral
Hungry Bird Story in Hindi With Moral

उधर बहुत ढूंढने के बाद टिंकू के पिता को एक ऐसी जगह मिल गई जहां बहुत सारे कीड़े थे। कई दिनों तक उनके भोजन की व्यवस्था की गई थी। वह खुशी-खुशी घर पहुंचा तो वहां कोई नहीं मिला। वह परेशान हो गया।

जब टिंकू चिड़िया, उसका भाई और माँ वापस आये तो पिता उन्हें पहचान नहीं सके और गुस्से में आकर उन सभी को वहाँ से भगा दिया। टिंकू ने अपने पिता को समझाने की बहुत कोशिश की।

वह बार-बार कहता रहा कि उस पर किसी ने रंग फेंका है, लेकिन टिंकू को असफलता हाथ लगी।

उनकी मां और भाई भी निराश हुए, लेकिन टिंकू ने हार नहीं मानी. वह उन्हें लेकर तालाब पर गई और स्नान करके सबकी राख उतार दी। ये तीनों अब अपने पुराने फॉर्म में हैं. अब टिंकू के पिता ने भी उसे पहचान लिया और माफ़ी मांगी.

अब सभी लोग खुशी-खुशी एक साथ रहने लगे। उनके पास भोजन की भी कमी नहीं थी।

भूखी चिड़िया की कहानी : शिक्षा

कभी भी किसी पर पूरी तरह निर्भर न रहें। व्यक्ति को स्वयं मेहनत करके अपनी आवश्यकता की वस्तुएं एकत्रित करनी चाहिए।

Bhukhi Chidiya ki Kahani

varshon pahale tinkoo chidiya apane maata-pita aur 5 bhaiyon ke saath ghantaaghar mein rahatee thee. tinkoo pakshee chhota tha.

usake pankh mulaayam the.

unakee maan ne unhen ghantaaghar kee dhun par chahakana sikhaaya tha. ghantaaghar ke paas ek ghar tha, jisamen pakshiyon se prem karane vaalee ek mahila rahatee thee.

vah pratidin tinkoo pakshee aur usake parivaar ke lie rotee ka ek tukada daalatee thee.

ek din vah beemaar pad gayee aur mar gayee. tinkoo pakshee aur usaka poora parivaar us mahila ke bhojan par nirbhar tha.

ab unake paas khaane ke lie kuchh nahin tha aur na hee ve apane lie bhojan jutaane ke lie kuchh karate the. ek din tinkoo pakshee ke pita ko bahut bhookh lagee to unhonne keedon ka shikaar karane ka phaisala kiya.

kadee mehanat ke baad unhen 3 keede mile, jo parivaar ke lie paryaapt nahin the. ve 8 log the, isalie unhonne tinkoo aur usake 2 chhote bhaiyon ko khilaane ke lie keedon ko alag rakh diya.

idhar, khaane kee talaash mein bhatakate hue tinkoo, usaka bhaee aur usakee maan kuchh dhoondhane ke lie ek ghar kee khidakee par chonch maar rahe the, lekin kuchh nahin mila.

isake badale ghar ke maalik ne un par raakh phenk dee, jisase ve teenon bhoore ho gaye. udhar bahut dhoondhane ke baad tinkoo ke pita ko ek aisee jagah mil gaee jahaan bahut saare keede the.

kaee dinon tak unake bhojan kee vyavastha kee gaee thee. vah khushee-khushee ghar pahuncha to vahaan koee nahin mila. vah pareshaan ho gaya.

jab tinkoo chidiya, usaka bhaee aur maan vaapas aaye to pita unhen pahachaan nahin sake aur gusse mein aakar un sabhee ko vahaan se bhaga diya.

tinkoo ne apane pita ko samajhaane kee bahut koshish kee. vah baar-baar kahata raha ki us par kisee ne rang phenka hai, lekin tinkoo ko asaphalata haath lagee.

unakee maan aur bhaee bhee niraash hue, lekin tinkoo ne haar nahin maanee. vah unhen lekar taalaab par gaee aur snaan karake sabakee raakh utaar dee.

ye teenon ab apane puraane phorm mein hain. ab tinkoo ke pita ne bhee use pahachaan liya aur maafee maangee. Bhukhi Chidiya ki Kahani in hindi

ab sabhee log khushee-khushee ek saath rahane lage. unake paas bhojan kee bhee kamee nahin thee.

Bhukhi Chidiya ki Kahani Moral

kabhee bhee kisee par pooree tarah nirbhar na rahen. vyakti ko svayan mehanat karake apanee aavashyakata kee vastuen ekatrit karanee chaahie.

1 thought on “पंचतंत्र कहानियाँ : भूखी चिड़िया की कहानी |Hungry Bird Story in Hindi With Moral”

Leave a Comment